Skip to main content

Posts

Showing posts from June, 2020

ज़िन्दगी से दो बातें .....

ज़िन्दगी ऐसी शुरू हुयी की ..... नाराज़ ते, तो उससे रूठलिया  परीशान ते, तो वजूद पूछलिया  हैरान ते, तो सवाल करलिया  उदास ते, तो रो रोके बुरा हाल बनालिया मग्न ते, तो कुछ काम करलिया    खुश  ते, तो मस्ती में बेहलिया पर ज़िंदगीने ऐसा मोड़ लिया ..... खामोश दिल में हलचल मचादिया  हकीकत का आईना दिखाड़िया  बैठकर सोचनेपर मजबूर करदिया अपने आपसे सवाल करना सिखादिया  ऐसे बातों ही बातों में  जीने का असली मतलब बतादिया  अरे ज़िंदगीने ऐसा निचोड़कर बोल्दिया की ..... "जीवन संगर्ष हो - न हो, कल हम हो - न हो; आप हो - न हो, पर यादों का सिलसिला तो हो  गमोको प्यारसे छूकर सेहलाओ  लम्होको हसकर बितालो  ज़िन्दगी जीनेका नाम है, हाँ मुझे ठीकसे पेहचानलो!"